Language:
Youtube

Search

Sawan 2024: Start Date, End Date, History, and Significance of Shravan Month; Full Sawan Somwar Calendar

  • Share this:

भोलेनाथ का सबसे प्रिय महीना श्रावण मास है

Starting Date: 22 जुलाई 2024

Sawan End Date: 19 अगस्त 2024

 

श्रावण मास का महत्व

भारतीय परंपरा में श्रावण मास को बहुत महत्वपूर्ण माना गया है। यह हिंदू कैलेंडर के पांचवें महीने में से एक होता है और इसे भगवान शिव का प्रिय मास माना जाता है। इस मास में भगवान शिव के भक्त उनके ध्यान और पूजन में अत्यधिक लगे रहते हैं। इसके अलावा, श्रावण मास के हर सोमवार को विशेष महत्व दिया गया है, जिसे 'सावन सोमवार' के रूप में जाना जाता है।

साल 2024 में कब से सावन शुरु हो रहे है?

इस साल, श्रावण मास 22 जुलाई 2024 को सोमवार से शुरू होगा। यह सावन 19 अगस्त 2024, सोमवार को समाप्त होगा। इस साल का खासियत यह है कि सावन की शुरुआत और समाप्ति दोनों ही सोमवार को हो रही है, जिससे इसका महत्व और बढ़ गया है। साथ ही, इस साल सावन में पांच सोमवार और चार मंगला गौरी व्रत भी हैं।

सावन सोमवार 2024

  • 22 जुलाई 2024 - पहला सावन सोमवार
  • 29 जुलाई 2024 - दूसरा सावन सोमवार
  • 5 अगस्त 2024 - तीसरा सावन सोमवार
  • 12 अगस्त 2024 - चौथा सावन सोमवार
  • 19 अगस्त 2024 - पांचवां सावन सोमवार

सावन माह का महत्व

वेदों और पुराणों में श्रावण मास को बहुत महत्व दिया गया है। इस मास में भगवान विष्णु योगनिद्रा में चले जाते हैं और श्रीविष्णु की स्थानीयता में भगवान शिव धरती पर आते हैं। इसलिए, इस मास में शिव की पूजा, जलाभिषेक और अन्य धार्मिक अनुष्ठान करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

श्रावण में व्रत और अनुष्ठान का महत्व

श्रावण मास में व्रत रखने का विशेष महत्व है। इस मास में भगवान शिव की पूजा, ध्यान और जलाभिषेक से उनके भक्तों के समस्त संकट दूर हो जाते हैं और उन्हें सुख, समृद्धि, सफलता और लंबी आयु प्राप्त होती है। श्रावण माह में भोलेनाथ का ध्यान और पूजन करने से भगवान शिव अपने भक्तों के दुःखों और कष्टों को दूर करते हैं। श्रावण मास के इस विशेष समय में सोमवार को भगवान शिव की पूजा करने से लोग अपनी ईच्छाओं को पूरा करने के संकल्प में अत्यंत लगे रहते हैं। विशेषकर वे भक्त जो किसी विशेष संकट से प्रभावित हैं, उन्हें इस मास में अपने मनोकामनाओं को पूरा करने के लिए अधिक संवेदनशीलता से भगवान शिव का ध्यान करना चाहिए।

मारकण्डेय ऋषि की कहानी के अनुसार, सावन माह में उन्होंने शिव पूजा करते हुए ब्रह्मांड के सृष्टि का दृष्टांत प्राप्त किया था। इस प्रकार, उन्हें शिव जी ने दीर्घायु और विशेष वरदान दिया था। इस कथा से प्राप्त ज्ञान और अनुभव के आधार पर श्रावण मास में शिव पूजन करने वाले भक्त अपने जीवन के हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

सावन मास के उपासना और रितुअल्स में भी विशेष महत्व है। इस मास में भगवान शिव की पूजा, ध्यान, जलाभिषेक, बेल पत्र की प्रतिष्ठा, बिल्व पत्र का अर्चना आदि करने से भक्त उनकी कृपा को प्राप्त कर सकते हैं। यहां तक कि इस माह में रहकर व्रत रखने वाले भक्त को मृत्यु के बाद भी जन्म-मरण के बंधन से मुक्ति मिलती है।

श्रावण में लोकप्रिय संगीत, भजन और कथाएँ भी सुनाई जाती हैं, जो श्रद्धालुओं को आध्यात्मिक ऊर्जा से भरपूर करती हैं। इन सभी अवसरों पर समुदाय के लोग एक साथ आकर भगवान की पूजा-अर्चना करते हैं और इसे अपने जीवन में संजीवनी शक्ति के रूप में महसूस करते हैं।

सावन 2024 में क्या क्या सावधानियां रखें?

  1. भगवान शिव के ध्यान में अधिक लगे रहें।
  2. जलाभिषेक और पूजन का ध्यानपूर्वक आयोजन करें।
  3. व्रत और उपवास की नियमितता बनाए रखें।
  4. आध्यात्मिक गतिविधियों में सक्रिय भाग लें।
  5. सावन सोमवार को विशेष महत्व दें और इसे पूरे श्रद्धा से मनाएं।

इस प्रकार, श्रावण मास के अवसर पर भगवान शिव के प्रति अपनी अद्वितीय भक्ति और समर्पण का प्रकटीकरण करने से हर व्यक्ति अपने जीवन को समृद्ध, सुखमय और प्रासंगिक बना सकता है।

सावन मास के उपासना और पूजन के लिए इस समय में विशेष तौर पर अपने मन, वचन और कर्म से भगवान की प्राप्ति का संकल्प लेना चाहिए। इस मास में श्रावणी सोमवार को भगवान शिव की पूजा करने वाले व्यक्ति को ध्यान और अधिक साधना की आवश्यकता होती है। उन्हें शिव जी के प्रति अपनी अद्वितीय भक्ति को व्यक्त करने का सुनहरा मौका मिलता है।

सावन माह में समाज में धार्मिक उत्सव और समारोह की विशेष धूमधाम से मनाए जाते हैं। इस समय पर भगवान की पूजा-अर्चना के अलावा, लोग भजन, कीर्तन, वृंदावन की मधुर ध्वनि, शिव स्तुति और भावुक भक्ति में लीन होते हैं। यह समय उनकी आध्यात्मिक जीवनशैली को सुन्दरता और महत्वपूर्णता प्रदान करता है।

आधुनिक युग में भी श्रावण मास के धार्मिक और सामाजिक महत्व को अदालत देने की आवश्यकता है। इस अवसर पर युवाओं को अपनी परंपरागत धार्मिक प्रथाओं के प्रति समर्पित होने के लिए प्रेरित किया जाना चाहिए, जिससे हमारी संस्कृति और धार्मिकता की विरासत को सुरक्षित रखा जा सके।

समापन

इस रूपांतरण के माध्यम से, हमने श्रावण 2024 के महत्व और सावन में सोमवारों की महत्वपूर्णता को समझा। यह समय वास्तव में भगवान शिव के साथ हमारे धार्मिक और आध्यात्मिक जीवन के लिए एक अद्वितीय अवसर है, जिसे हमें अपनी सद्गुणों के विकास में निवेश करना चाहिए। इसी भावना के साथ, श्रावण माह की शुभकामनाओं के साथ, हम यहां समाप्त करते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

  1. सावन में सोमवार का क्या महत्व होता है?
    • सावन मास में सोमवार को भगवान शिव की पूजा का विशेष महत्व होता है। इस दिन उनके भक्त उनकी कृपा को प्राप्त कर सकते हैं।
  2. श्रावण मास में क्या उपवास करना चाहिए?
    • श्रावण मास में उपवास करने से भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है और भक्तों के संकट दूर होते हैं। विशेषकर सोमवार को यह उपासना करनी चाहिए।
  3. क्या श्रावण मास में शादी करना शुभ होता है?
    • श्रावण मास में विशेषकर सोमवार को शादी करना धार्मिक दृष्टि से शुभ माना जाता है, क्योंकि इस समय पर भगवान शिव और पार्वती की कृपा प्राप्त होती है।
  4. श्रावण मास में कौन-कौन से पर्व मनाए जाते हैं?
    • श्रावण मास में हर सोमवार को सावन सोमवार, मंगलवार को मंगला गौरी व्रत, और शुक्रवार को वरलक्ष्मी व्रत जैसे पर्व मनाए जाते हैं।
  5. सावन मास में कौन-कौन से फल खाने चाहिए?
    • सावन मास में फलों में बिल्व, केला, अमरूद, आम आदि का अधिक सेवन करना शुभ माना जाता है, क्योंकि इन्हें भगवान शिव का प्रिय फल माना जाता है।
Prabhu Ke Dwar

Prabhu Ke Dwar

Welcome to Prabhu Ke Dwar! We are thrilled to have you here with us. Prabhu Ke Dwar is a platform that aims to spread positivity, spirituality, and inspiration through its content. We hope you find what you are looking for and leave feeling uplifted and motivated. Thank you for joining us!